ऋणमोचन महागणपति स्तोत्र || Rin Mochan Maha Ganapati Stotram

ऋणमोचन महागणपति स्तोत्र, Rin Mochan Maha Ganapati Stotram, ऋणमोचन महागणपति स्तोत्र के फायदे, Rin Mochan Maha Ganapati Stotram Ke Fayde, ऋणमोचन महागणपति स्तोत्र के लाभ, Rin Mochan Maha Ganapati Stotram Ke Labh, Rin Mochan Maha Ganapati Stotram Benefits, Rin Mochan Maha Ganapati Stotram in Hindi, Rin Mochan Maha Ganapati Stotram Pdf, Rin Mochan Maha Ganapati Stotram Mp3 Download, Rin Mochan Maha Ganapati Stotram Lyrics, Rin Mochan Maha Ganapati Stotram in Mantra.

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

नोट : यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )

30 साल के फ़लादेश के साथ वैदिक जन्मकुंडली बनवाये केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

हर महीनें का राशिफल, व्रत, ज्योतिष उपाय, वास्तु जानकारी, मंत्र, तंत्र, साधना, पूजा पाठ विधि, पंचांग, मुहूर्त व योग आदि की जानकारी के लिए अभी हमारे Youtube Channel Pandit Lalit Trivedi को Subscribers करना नहीं भूलें, क्लिक करके अभी Subscribers करें : Click Here

ऋणमोचन महागणपति स्तोत्र || Rin Mochan Maha Ganapati Stotram

ऋणमोचन महागणपति स्तोत्र भगवान श्री गणेश जी को समर्पित हैं ! Rin Mochan Maha Ganapati Stotram का पाठ जब किसी जातक पर ऋण अर्थात कर्ज की स्थिति बहुत अधिक बढ़ जाये या बढ़ गया हो उनके लिए बहुत लाभकारी है ! ऋणमोचन महागणपति स्तोत्र का जो भी व्यक्ति नियमित रूप से पाठ करता है उसको जीवन में कर्ज से परेशानी का सामना नही करना पड़ता है और जिसका कर्ज उतर नही रहा हो उसके लिए भी Rin Mochan Maha Ganapati Stotram ज्यादा लाभकारी हैं. जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 9667189678 Rin Mochan Maha Ganapati Stotram By Acharya Pandit Lalit Trivedi

ऋणमोचन महागणपति स्तोत्र विधि || Rin Mochan Maha Ganapati Stotram Vidhi

जब किसी भी जातक के कर्ज बहुत ज्यादा हो गया हो और उतरने का नाम नही ले रहा हो तो उन जातक को किसी शुभ तिथि के दिन शुभ मुहूर्त चोकी पर केसरिया अथवा लाल वस्त्र बिछाकर उस पर भगवान श्री गणेश जी को स्थापित करे, जैसे भगवान श्री हनुमान जी को सिंदूर व चमेली के तेल का चोला अर्पित करते है ठीक उसी तरह से सिंदूर व चमेली के तेल का चोला श्रीगणपति को अर्पित कर अपने बाये हाथ की तरफ देसी घी का दीपक व दाहिने हाथ की तरफ सरसों के तेल या तिल के तेल का दीपक स्थापित करके जलाकर ऋणमोचन महागणपति स्तोत्र का नियमित अपनी श्रद्धा अनुसार 3, 5, 8, 9 , अथवा 11 पाठ 45 दिन या छ: मास नित्य करें ! पाठ करने के बाद भगवान श्री गणेश जी को गुड, चने व बेसन का कुछ भोग लगाये !

ऋणमोचन महागणपति स्तोत्र || Rin Mochan Maha Ganapati Stotram

विनियोग – 

ॐ अस्य श्रीऋण-मोचन महा-गणपति-स्तोत्र-मन्त्रस्य भगवान् शुक्राचार्य ऋषिः, ऋण-मोचन-गणपतिः देवता, मम-ऋण-मोचनार्थं जपे विनियोगः।

ऋष्यादि-न्यास – 

भगवान् शुक्राचार्य ऋषये नमः शिरसि, ऋण-मोचन-गणपति देवतायै नमः हृदि, मम-ऋण-मोचनार्थे जपे विनियोगाय नमः अञ्जलौ।

ऋणमोचन महागणपति स्तोत्र || Rin Mochan Maha Ganapati Stotram

ॐ स्मरामि देव-देवेश।वक्र-तुण्डं महा-बलम्।

षडक्षरं कृपा-सिन्धु, नमामि ऋण-मुक्तये।।1।।

महा-गणपतिं देवं, महा-सत्त्वं महा-बलम्।

महा-विघ्न-हरं सौम्यं, नमामि ऋण-मुक्तये।।2।।

एकाक्षरं एक-दन्तं, एक-ब्रह्म सनातनम्।

एकमेवाद्वितीयं च, नमामि ऋण-मुक्तये।।3।।

शुक्लाम्बरं शुक्ल-वर्णं, शुक्ल-गन्धानुलेपनम्।

सर्व-शुक्ल-मयं देवं, नमामि ऋण-मुक्तये।।4।।

रक्ताम्बरं रक्त-वर्णं, रक्त-गन्धानुलेपनम्।

रक्त-पुष्पै पूज्यमानं, नमामि ऋण-मुक्तये।।5।।

कृष्णाम्बरं कृष्ण-वर्णं, कृष्ण-गन्धानुलेपनम्।

कृष्ण-पुष्पै पूज्यमानं, नमामि ऋण-मुक्तये।।6।।

पीताम्बरं पीत-वर्णं, पीत-गन्धानुलेपनम्।

पीत-पुष्पै पूज्यमानं, नमामि ऋण-मुक्तये।।7।।

नीलाम्बरं नील-वर्णं, नील-गन्धानुलेपनम्।

नील-पुष्पै पूज्यमानं, नमामि ऋण-मुक्तये।।8।।

धूम्राम्बरं धूम्र-वर्णं, धूम्र-गन्धानुलेपनम्।

धूम्र-पुष्पै पूज्यमानं, नमामि ऋण-मुक्तये।।9।।

सर्वाम्बरं सर्व-वर्णं, सर्व-गन्धानुलेपनम्।

सर्व-पुष्पै पूज्यमानं, नमामि ऋण-मुक्तये।।10।।

भद्र-जातं च रुपं च, पाशांकुश-धरं शुभम्।

सर्व-विघ्न-हरं देवं, नमामि ऋण-मुक्तये।।11।।

फल-श्रुति –

यः पठेत् ऋण-हरं-स्तोत्रं, प्रातः-काले सुधी नरः। षण्मासाभ्यन्तरे चैव, ऋणच्छेदो भविष्यति

जो व्यक्ति उक्त “ऋण-मोचन-स्तोत्र’ का नित्य प्रातः काल पाठ करता है, उसका छः मास में ऋण-निवारण होता है ।

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )

यह पोस्ट आपको कैसी लगी Star Rating दे कर हमें जरुर बताये साथ में कमेंट करके अपनी राय जरुर लिखें धन्यवाद : Click Here