रोजाना फ्री टिप्स के लिए हमसे WhatsApp Group पर जुड़ें Join Now

रोजाना फ्री टिप्स के लिए हमसे Telegram Group पर जुड़ें Join Now

Latest Post आश्विन मास

इंदिरा एकादशी व्रत कथा || Indira Ekadashi Vrat Katha || Indira Ekadashi Katha

इंदिरा एकादशी व्रत कथा, Indira Ekadashi Vrat Katha, Indira Ekadashi Vrat Kahani, Indira Ekadashi Vrat Kab Hai 2022, Indira Ekadashi Vrat Katha Ka Punya, Indira Ekadashi Vrat Katha Pdf, Indira Ekadashi Vrat Katha Lyrics.

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

नोट : यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )

30 साल के फ़लादेश के साथ वैदिक जन्मकुंडली बनवाये केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

इंदिरा एकादशी व्रत कथा || Indira Ekadashi Vrat Katha || Indira Ekadashi Vrat Kahani

Indira Ekadashi Vrat आश्विन मास की कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि के दिन मनाई जाती हैं. यानी आती हैं. इंदिरा एकादशी व्रत करने से  मनुष्य सब पापों से छूट जाते हैं और सब प्रकार के भोगों को भोगकर बैकुंठ को प्राप्त होते हैं। Indira Ekadashi Vrat करने से मृत्यु के पश्चात जातक को स्वर्ग की प्राप्ति होती है. 

इंदिरा एकादशी व्रत कथा || Indira Ekadashi Vrat Katha || Indira Ekadashi Katha

इंदिरा एकादशी व्रत कब हैं  ? || Indira Ekadashi 2022 Date : 

इस साल 2022 में Indira Ekadashi Vrat को सितम्बर महीने की 21 तारीख़, वार बुधवार के दिन बनाई जायेगीं ! 

इंदिरा एकादशी व्रत कथा || Indira Ekadashi Vrat Katha 

धर्मराज युधिष्ठिर कहने लगे कि हे भगवान! आश्विन कृष्ण एकादशी का क्या नाम है? इसकी विधि तथा फल क्या है? सो कृपा करके कहिए। भगवान श्रीकृष्ण कहने लगे कि इस एकादशी का नाम इंदिरा एकादशी है। यह एकादशी पापों को नष्ट करने वाली तथा पितरों को अ‍धोगति से मुक्ति देने वाली होती है। हे राजन! ध्यानपूर्वक इसकी कथा सुनो। इसके सुनने मात्र से ही वायपेय यज्ञ का फल मिलता है। Indira Ekadashi Vrat Katha

प्राचीनकाल में सतयुग के समय में महिष्मति नाम की एक नगरी में इंद्रसेन नाम का एक प्रतापी राजा धर्मपूर्वक अपनी प्रजा का पालन करते हुए शासन करता था। वह राजा पुत्र, पौत्र और धन आदि से संपन्न और विष्णु का परम भक्त था। एक दिन जब राजा सुखपूर्वक अपनी सभा में बैठा था तो आकाश मार्ग से महर्षि नारद उतरकर उसकी सभा में आए। राजा उन्हें देखते ही हाथ जोड़कर खड़ा हो गया और विधिपूर्वक आसन व अर्घ्य दिया।

|| नवरात्रि का पांचवें दिन ||

माँ स्कंदमाता देवी कथा की पूजा में, पढ़ें पावन ये कथा : Click Here

नवरात्रि के पांचवे दिन ऐसे करें देवी स्कंदमाता की पूजा किसका लगाये माँ को भोग : Click Here

नवरात्रि का पांचवें दिन, मां स्कंदमाता देवी माता की पूजा अर्चना में करें इस मंत्र का जाप : Click Here

नवरात्रि के पांचवें दिन जरूर करें इस स्कंदमाता स्तोत्र का पाठ, मिलेगा मां भगवती का आशीर्वाद : Click Here

नवरात्रि के पांचवें दिन करें माँ स्कंदमाता देवी कवच का पाठ, पूरे होंगे सभी मनोरथ : Click Here

नवरात्रि के पांचवें दिन की पूजा में करें मां स्कंदमाता देवी की आरती प्रसन्न होंगी देवी : Click Here

सुख से बैठकर मुनि ने राजा से पूछा कि हे राजन! आपके सातों अंग कुशलपूर्वक तो हैं? तुम्हारी बुद्धि धर्म में और तुम्हारा मन विष्णु भक्ति में तो रहता है? देवर्षि नारद की ऐसी बातें सुनकर राजा ने कहा- हे महर्षि! आपकी कृपा से मेरे राज्य में सब कुशल है तथा मेरे यहाँ यज्ञ कर्मादि सुकृत हो रहे हैं। आप कृपा करके अपने आगमन का कारण कहिए। तब ऋषि कहने लगे कि हे राजन! आप आश्चर्य देने वाले मेरे वचनों को सुनो। Indira Ekadashi Vrat Katha

मैं एक समय ब्रह्मलोक से यमलोक को गया, वहाँ श्रद्धापूर्वक यमराज से पूजित होकर मैंने धर्मशील और सत्यवान धर्मराज की प्रशंसा की। उसी यमराज की सभा में महान ज्ञानी और धर्मात्मा तुम्हारे पिता को एकादशी का व्रत भंग होने के कारण देखा। उन्होंने संदेशा दिया सो मैं तुम्हें कहता हूँ। उन्होंने कहा कि पूर्व जन्म में ‍कोई विघ्न हो जाने के कारण मैं यमराज के निकट रह रहा हूँ, सो हे पुत्र यदि तुम आश्विन कृष्णा इंदिरा एकादशी का व्रत मेरे निमित्त करो तो मुझे स्वर्ग की प्राप्ति हो सकती है। 

इतना सुनकर राजा कहने लगा कि हे महर्षि आप इस व्रत की विधि मुझसे कहिए। नारदजी कहने लगे- आश्विन माह की कृष्ण पक्ष की दशमी के दिन प्रात:काल श्रद्धापूर्वक स्नानादि से निवृत्त होकर पुन: दोपहर को नदी आदि में जाकर स्नान करें। फिर श्रद्धापूर्व पितरों का श्राद्ध करें और एक बार भोजन करें। प्रात:काल होने पर एकादशी के दिन दातून आदि करके स्नान करें, फिर व्रत के नियमों को भक्तिपूर्वक ग्रहण करता हुआ प्रतिज्ञा करें कि ‘मैं आज संपूर्ण भोगों को त्याग कर निराहार एकादशी का व्रत करूँगा। Indira Ekadashi Vrat Katha

|| नवरात्रि का पांचवें दिन ||

माँ स्कंदमाता देवी कथा की पूजा में, पढ़ें पावन ये कथा : Click Here

नवरात्रि के पांचवे दिन ऐसे करें देवी स्कंदमाता की पूजा किसका लगाये माँ को भोग : Click Here

नवरात्रि का पांचवें दिन, मां स्कंदमाता देवी माता की पूजा अर्चना में करें इस मंत्र का जाप : Click Here

नवरात्रि के पांचवें दिन जरूर करें इस स्कंदमाता स्तोत्र का पाठ, मिलेगा मां भगवती का आशीर्वाद : Click Here

नवरात्रि के पांचवें दिन करें माँ स्कंदमाता देवी कवच का पाठ, पूरे होंगे सभी मनोरथ : Click Here

नवरात्रि के पांचवें दिन की पूजा में करें मां स्कंदमाता देवी की आरती प्रसन्न होंगी देवी : Click Here

हे अच्युत! हे पुंडरीकाक्ष! मैं आपकी शरण हूँ, आप मेरी रक्षा कीजिए, इस प्रकार नियमपूर्वक शालिग्राम की मूर्ति के आगे विधिपूर्वक श्राद्ध करके योग्य ब्राह्मणों को फलाहार का भोजन कराएँ और दक्षिणा दें। पितरों के श्राद्ध से जो बच जाए उसको सूँघकर गौ को दें तथा ध़ूप, दीप, गंध, ‍पुष्प, नैवेद्य आदि सब सामग्री से ऋषिकेश भगवान का पूजन करें। Indira Ekadashi Vrat Katha

रात में भगवान के निकट जागरण करें। इसके पश्चात द्वादशी के दिन प्रात:काल होने पर भगवान का पूजन करके ब्राह्मणों को भोजन कराएँ। भाई-बंधुओं, स्त्री और पुत्र सहित आप भी मौन होकर भोजन करें। नारदजी कहने लगे कि हे राजन! इस विधि से यदि तुम आलस्य रहित होकर इस एकादशी का व्रत करोगे तो तुम्हारे पिता अवश्य ही स्वर्गलोक को जाएँगे। इतना कहकर नारदजी अंतर्ध्यान हो गए।

नारदजी के कथनानुसार राजा द्वारा अपने बाँधवों तथा दासों सहित व्रत करने से आकाश से पुष्पवर्षा हुई और उस राजा का पिता गरुड़ पर चढ़कर विष्णुलोक को गया। राजा इंद्रसेन भी एकादशी के व्रत के प्रभाव से निष्कंटक राज्य करके अंत में अपने पुत्र को सिंहासन पर बैठाकर स्वर्गलोक को गया। Indira Ekadashi Vrat Katha

|| नवरात्रि का पांचवें दिन ||

माँ स्कंदमाता देवी कथा की पूजा में, पढ़ें पावन ये कथा : Click Here

नवरात्रि के पांचवे दिन ऐसे करें देवी स्कंदमाता की पूजा किसका लगाये माँ को भोग : Click Here

नवरात्रि का पांचवें दिन, मां स्कंदमाता देवी माता की पूजा अर्चना में करें इस मंत्र का जाप : Click Here

नवरात्रि के पांचवें दिन जरूर करें इस स्कंदमाता स्तोत्र का पाठ, मिलेगा मां भगवती का आशीर्वाद : Click Here

नवरात्रि के पांचवें दिन करें माँ स्कंदमाता देवी कवच का पाठ, पूरे होंगे सभी मनोरथ : Click Here

नवरात्रि के पांचवें दिन की पूजा में करें मां स्कंदमाता देवी की आरती प्रसन्न होंगी देवी : Click Here

हे युधिष्ठिर! यह इंदिरा एकादशी के व्रत का माहात्म्य मैंने तुमसे कहा। इसके पढ़ने और सुनने से मनुष्य सब पापों से छूट जाते हैं और सब प्रकार के भोगों को भोगकर बैकुंठ को प्राप्त होते हैं। इति शुभम् 

इंदिरा एकादशी व्रत कथा का पुण्य || Indira Ekadashi Vrat Katha Ka Punya

पुराणों में बताया गया है कि इंदिरा एकादशी व्रत करने से मनुष्य सब पापों से छूट जाते हैं और सब प्रकार के भोगों को भोगकर बैकुंठ को प्राप्त होते हैं।

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )

यह पोस्ट आपको कैसी लगी Star Rating दे कर हमें जरुर बताये साथ में कमेंट करके अपनी राय जरुर लिखें धन्यवाद : Click Here 

रोजाना फ्री टिप्स के लिए हमसे WhatsApp Group पर जुड़ें Join Now

रोजाना फ्री टिप्स के लिए हमसे Telegram Group पर जुड़ें Join Now

Leave a Comment

Call Now Button