नवनीत कृष्ण स्तव || Navanita Krishna Stavan

नवनीत कृष्ण स्तव, Navanita Krishna Stavan, Navanita Krishna Stavan Ke Fayde, Navanita Krishna Stavan Ke Labh, Navanita Krishna Stavan Benefits, Navanita Krishna Stavan Pdf, Navanita Krishna Stavan Mp3 Download, Navanita Krishna Stavan Lyrics. 

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

नोट : यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )

30 साल के फ़लादेश के साथ वैदिक जन्मकुंडली बनवाये केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

नवनीत कृष्ण स्तव || Navanita Krishna Stavan

नवनीत कृष्ण स्तव भगवान श्री कृष्ण जी समर्पित हैं ! नवनीत कृष्ण स्तव का पाठ विशेष रूप से श्री कृष्ण जन्माष्टमी या भगवान श्री कृष्ण जी से संबंधित अन्य कई त्योहारों पर किया जाता हैं ! Navanita Krishna Stavan का नियमित रूप से पाठ करने से भगवान श्री कृष्ण जी को आसानी से प्रसन्न किया जा सकता हैं ! नवनीत कृष्ण स्तव के बारे में बताने जा रहे हैं !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 9667189678 Navanita Krishna Stavan By Online Specialist Astrologer Acharya Pandit Lalit Trivedi.

नवनीत कृष्ण स्तव || Navanita Krishna Stavan

सञ्चितयामि गुरुवायुपुरेश, नाद-ब्रह्मात्मिकां मुरलिकामुपसन्दधानम्।

प्रेमात्मकं च नवनीतमुदावहन्तं योगद्वयीसुखसमन्वयिमन्दहासम् ॥१॥

पिञ्छाञ्चलाञ्चितमणीमुकुटाभिरामं लोलालकान्तललितालिकसन्निवेशम्।

चिल्लीलतामृदुविलासविशेषरम्यं कारुण्यवर्षिनयनान्तमुपाश्रये त्वाम्॥२॥

सरल  ज्योतिष उपाय के लिए हमारे Youtube चेनल को Subscriber करें : Click Here

रक्ताधरप्रसृतसुन्दरमन्दहासं गण्डस्थलप्रतिफलन्मणिकुण्डलाढ्यम्।

ईषत्स्फुरद्दशनमुग्धमुखारविन्दं त्वामाश्रये सुमधुरं नवनीतकृष्णम्॥३॥

त्वां द्वीपिदिव्यनखभूषणचारुवत्सं वंशीविराजितविमोहनवामहस्तम्।

हैय्यङ्गवीनभृतदक्षिणपाणिपद्मं भक्तप्रियं परिभजे नवनीतकृष्णम्॥४॥

उद्दीप्तकान्तिविलसन्मणिकिङ्किणीकं पीताम्बरावृतमिदं भवदीयमध्यम्।

चित्ते चकास्तु भगवन् नवनीलरत्न-स्तम्भाभमूरुयुगलं च हरे नमस्ते ॥५॥

जानुद्वयं सुमधुराकृतिरम्यरम्यं वृत्तानुपूर्वललिते तव जङ्घिके च।

मञ्जीरमञ्जुलतमं प्रपदं मुनीन्द्र-वृन्दार्चितं च चरणं हृदि भावयेऽहम्॥६॥

सरल  ज्योतिष उपाय के लिए हमारे Youtube चेनल को Subscriber करें : Click Here

मज्जीविताब्धिमथनेन भवत्प्रसादा-ल्लब्धं विभो सुमधुरं नवनीतमल्पम्।

त्वत्प्रेमरूपममृतं परिकल्पयामि नैवेद्यकं, मयि कुचेलसख, प्रसीद! ॥७॥

श्रीमारुतालयपते, नवनीतकृष्ण, त्वामेव सत्यशिवसुन्दररूपमेकम्।

योगीन्द्रवन्दितविशुद्धपदारविन्दं तापत्रयैकशमनं शरणं प्रपद्ये ॥८॥

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )

यह पोस्ट आपको कैसी लगी Star Rating दे कर हमें जरुर बताये साथ में कमेंट करके अपनी राय जरुर लिखें धन्यवाद : Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *