Latest Post

तेरह मुखी रुद्राक्ष के फायदे || 13 Mukhi Rudraksha Ke Fayde || 13 Mukhi Rudraksha

तेरह मुखी रुद्राक्ष के फायदे, 13 Mukhi Rudraksha Ke Fayde, 13 Mukhi Rudraksha Ka Mahatva, 13 Mukhi Rudraksha Ke Labh, 13 Mukhi Rudraksha Pahane Ke Fayde / Labh, 13 Mukhi Rudraksha Ke Niyam, 13 Mukhi Rudraksha Benefits. 

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

नोट : यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )

30 साल के फ़लादेश के साथ वैदिक जन्मकुंडली बनवाये केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

तेरह मुखी रुद्राक्ष के फायदे || 13 Mukhi Rudraksha Ke Fayde || 13 Mukhi Rudraksha

हम यंहा आपको तेरह मुखी रुद्राक्ष के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं, हमारी इस पोस्ट के माध्यम से आप तेरह मुखी रुद्राक्ष के पहने के फ़ायदे जान सकोंगे. Online Specialist Astrologer Acharya Pandit Lalit Trivedi द्वारा बताये जा रहे तेरह मुखी रुद्राक्ष के फायदे || 13 Mukhi Rudraksha Ke Fayde को पढ़कर आप भी तेरह मुखी रुद्राक्ष के फायदे के बारे में अधिक से अधिक जान सकोंगे !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! जय श्री मेरे पूज्यनीय माता – पिता जी !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें Mobile & Whats app Number : 9667189678 13 Mukhi Rudraksha Ke Fayde By Acharya Pandit Lalit Trivedi

तेरह मुखी रुद्राक्ष का महत्व || 13 Mukhi Rudraksha Ka Mahatva

तेरह मुखी रुद्राक्ष कामदेव का स्वरूप माना जाता है । 13 Mukhi Rudraksha सौभाग्यशाली जातकों के पास ही यह रुद्राक्ष होता है । तेरह मुखी रुद्राक्ष धारण करने से जातक की समस्त कामनायें, मानसिक इच्छापूर्ति पूर्ण होती हैं तथा धन, यश, मान, पद-प्रतिष्ठा आदि के साथ साथ यह दांपत्य जीवन को सुखमय बनाकर ख़ुशियों से भरता है । 

इसे धारण वाले जातक के ऊपर विशेष रूप से कामदेव व रति का आशीर्वाद रहता हैं ! 13 Mukhi Rudraksha धारण करने से जातक में वशीकरण और आकर्षण का गुण भी मिलते हैं ! यह रुद्राक्ष धारण करने से नपुंसकता दूर होती है । तेरह मुखी रुद्राक्ष धारण करने से जातक हर प्रकार की स्त्री को आकर्षित करने वाला होता है ऐसा जातक काम कला में निपुण होता है। 

यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )

तेरह मुखी रूद्राक्ष के लाभ || 13 Mukhi Rudraksha Ke Labh

  • 13 Mukhi Rudraksha को धारण करने से जातक राजा की तरह ओजस्वी होता है ।
  • तेरह मुखी रुद्राक्ष धारण करने से जातक की समस्त कामनायें, मानसिक इच्छापूर्ति पूर्ण होती हैं और पापों से मुक्ति देता है।
  • तेरह मुखी रुद्राक्ष धारण करने जातक में वशीकरण, आकर्षण, ऐश्वर्यमान बनता है तथा यह रुद्राक्ष उच्च पद प्राप्ति, सम्मान में वृद्धि दिलाता है ।
  • तेरह मुखी रुद्राक्ष धारण करने से शरीर के आंतरिक रोग दूर हो जाते हैं और निसंतान दम्पति को संतान प्रदान करने वाला होता है ।

  • शारीरिक सुन्दरता बनाए रखने के लिए 13 Mukhi Rudraksha को दूध के साथ औटाकर पीना चाहिए !
  • चर्म सम्बंधित रोग के पीड़ित जातकों को तेरह मुखी रुद्राक्ष को नारियल तेल के साथ घिसकर लगाने से लाभ मिलता हैं !
  • 13 Mukhi Rudraksha को दूध या शहद के साथ घिसकर इसे सेवन करने से नपुंसकता दूर होती है !

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )

यह पोस्ट आपको कैसी लगी Star Rating दे कर हमें जरुर बताये साथ में कमेंट करके अपनी राय जरुर लिखें धन्यवाद : Click Here

Call Now Button
You cannot copy content of this page