दशश्लोकी स्तुतिः || Dasasloki Stuti || Dasa Sloki Stuti

दशश्लोकी स्तुतिः, Dasasloki Stuti, Dasa Sloki Stuti, दशश्लोकी स्तुतिः के फायदे, Dasasloki Stuti Ke Fayde, दशश्लोकी स्तुतिः के लाभ, Dasasloki Stuti Ke Labh, Dasasloki Stuti Benefits, Dasasloki Stuti in Sanskrit, Dasasloki Stuti in Hindi, Dasasloki Stuti Pdf, Dasasloki Stuti Mp3 Download, Dasasloki Stuti Lyrics, Dasasloki Stuti in Mantra.

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

नोट : यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )

30 साल के फ़लादेश के साथ वैदिक जन्मकुंडली बनवाये केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

हर महीनें का राशिफल, व्रत, ज्योतिष उपाय, वास्तु जानकारी, मंत्र, तंत्र, साधना, पूजा पाठ विधि, पंचांग, मुहूर्त व योग आदि की जानकारी के लिए अभी हमारे Youtube Channel Pandit Lalit Trivedi को Subscribers करना नहीं भूलें, क्लिक करके अभी Subscribers करें : Click Here

दशश्लोकी स्तुतिः || Dasasloki Stuti || Dasa Sloki Stuti

दशश्लोकी स्तुतिः के समर्पित भगवान श्री शिव जी हैं ! दशश्लोकी स्तुतिः के रचियता श्री शंकराचार्य जी हैं ! दशश्लोकी स्तुतिः आदि के बारे में बताने जा रहे हैं !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 9667189678 Dasasloki Stuti By Online Specialist Astrologer Acharya Pandit Lalit Trivedi.

दशश्लोकी स्तुतिः || Dasasloki Stuti || Dasa Sloki Stuti

साम्बो नः कुलदैवतं पशुपते साम्ब त्वदीया वयं,

साम्बं स्तौमि सुरासुरोरगगणाः साम्बेन संतारिताः ।

साम्बायास्तु नमो मया विरचितं साम्बात्परं नो भजे,

साम्बस्यानुचरोऽस्म्यहं मम रतिः साम्बे परब्रह्मणि ॥ १ ॥

विष्ण्वाद्याश्च पुरत्रयं सुरगणाः जेतुं न शक्ताः स्वयं,

यं शंभुं भगवन्वयं तु पशवोऽस्माकं त्वमेवेश्वरः ।

स्वस्वस्थाननियोजितास्सुमनसः स्वस्था बभूवुस्ततः,

तस्मिन् मे हृदयं सुखेन रमतां साम्बे परब्रह्मणि ॥ २ ॥

क्षोणी यस्य रथो रथाङ्गयुगलं चन्द्रार्कबिम्बद्वयं,

कोदण्डः कनकाचलॊ हरिरभूद्बाणो विधिः सारथिः ।

तूणीरो जलधिर्हयाः श्रुतिचयो मौर्वी भुजङ्गाधिपः,

तस्मिन् मे हृदयं सुखेन रमतां साम्बे परब्रह्मणि ॥ ३ ॥

येनापादितमङ्गजाङ्गभसितं दिव्याङ्गरागैः समं,

येन स्वीकृतमब्जसंभवशिरः सौवर्णपात्रैः समम् ।

येनाङ्गीकृतमच्युतस्य नयनं पूजारविन्दैः समं,

तस्मिन् मे हृदयं सुखेन रमतां साम्बे परब्रह्मणि ॥ ४ ॥

गोविन्दादधिकं न दैवतमिति प्रोच्चार्य हस्तावुभा,

वुद्धृत्याथ शिवस्य सन्निधिगतो व्यासो मुनीनां वरः ।

यस्य स्थंभितपाणिरानतिकृता नन्दीश्वरेणाभवत्,

तस्मिन् मे हृदयं सुखेन रमतां साम्बे परब्रह्मणि ॥ ५ ॥

आकाशश्चिकुरायते दशदिशाभोगो दुकूलायते,

शीतांशुः प्रसवायते स्थिरतरानन्द स्वरूपायते ।

वेदान्तो निलयायते सुविनयो यस्य स्वभावायते,

तस्मिन् मे हृदयं सुखेन रमतां साम्बे परब्रह्मणि ॥ ६ ॥

विष्णुर्यस्य सहस्रनामनियमादम्भोरुहाण्यर्चय,

न्नेकोनोपचितेषु नेत्रकमलं नैजं पदाब्जद्वये ।

संपूज्यासुरसंहतिं विदलयंस्त्रैलोक्यपालोऽभवत्,

तस्मिन् मे हृदयं सुखेन रमतां साम्बे परब्रह्मणि ॥ ७ ॥

शौरिं सत्यगिरं वराहवपुषं पादाम्बुजादर्शने,

चक्रे यो दयया समस्तजगतां नाथं शिरोदर्शने ।

मिथ्यावाचमपूज्यमेव सततं हंसस्वरूपं विधिं,

तस्मिन् मे हृदयं सुखेन रमतां साम्बे परब्रह्मणि ॥ ८ ॥

यस्यासन्धरणीजलाग्निपवनव्योमार्कचन्द्रादयो,

विख्यातास्तनवोऽष्टधा परिणता नान्यत्ततो वर्तते ।

ॐकारार्थविवेचनी श्रुतिरियं चाचष्ट तुर्यं शिवं,

तस्मिन् मे हृदयं सुखेन रमतां साम्बे परब्रह्मणि ॥ ९ ॥

विष्णुब्रह्मसुराधिपप्रभृतयः सर्वेऽपि देवा यदा,

संभूताज्जलधेर्विषात्परिभवं प्राप्तास्तदा सत्वरम् ।

तानार्तान् शरणागतानिति सुरान्योऽरक्षदर्धक्षणात्,

तस्मिन् मे हृदयं सुखेन रमतां साम्बे परब्रह्मणि ॥ १० ॥

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )

यह पोस्ट आपको कैसी लगी Star Rating दे कर हमें जरुर बताये साथ में कमेंट करके अपनी राय जरुर लिखें धन्यवाद : Click Here