श्री राधा चालीसा || Shri Radha Chalisa || Radha Chalisa

श्री राधा चालीसा, Shri Radha Chalisa, Radha Chalisa, श्री राधा चालीसा के फायदे, Shri Radha Chalisa Ke Fayde, श्री राधा चालीसा के लाभ, Shri Radha Chalisa Ke Labh, Shri Radha Chalisa Benefits, Shri Radha Chalisa in Hindi, Shri Radha Chalisa Pdf, Shri Radha Chalisa Mp3 Download, Shri Radha Chalisa Lyrics, Radha Chalisa Pdf, Radha Chalisa Mp3 Download, Radha Chalisa Lyrics. 
  • 10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678
  • नोट : यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )
  • 30 साल के फ़लादेश के साथ वैदिक जन्मकुंडली बनवाये केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678
  • हर महीनें का राशिफल, व्रत, ज्योतिष उपाय, वास्तु जानकारी, मंत्र, तंत्र, साधना, पूजा पाठ विधि, पंचांग, मुहूर्त व योग आदि की जानकारी के लिए अभी हमारे Youtube Channel Pandit Lalit Trivedi को Subscribers करना नहीं भूलें, क्लिक करके अभी Subscribers करें : Click Here

श्री राधा चालीसा || Shri Radha Chalisa || Radha Chalisa

श्री राधा जी की पूजा अर्चना में श्री राधा चालीसा का पाठ किया जाता हैं ! श्री राधा चालीसा के बारे में बताने जा रहे हैं !! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 9667189678 Shri Radha Chalisa By Online Specialist Astrologer Acharya Pandit Lalit Trivedi.  

श्री राधा चालीसा || Shri Radha Chalisa || Radha Chalisa

दोहा

श्रीराधे वृषभानुजा , भक्तानी प्राणाधार |
वृन्दाविपिन विहारिन्नी , प्रन्नावोम बारम्बार ||

जैसो तैसो रवारोऊ , कृष्ण -प्रिय सुखधाम |
चरण शरण निज दीजिये , सुन्दर सुखद ललाम ||

चौपाई

जय वृषभान कुंवारी श्री श्यामा | कीरति नंदिनी शोभा धामा ||
नित्य विहारिणी श्याम अधर | अमित बोध मंगल दातार ||

रास विहारिणी रस विस्तारिन | सहचरी सुभाग यूथ मन भावनी |
नित्य किशोरी राधा गोरी | श्याम प्रन्नाधन अति जिया भोरी ||

करुना सागरी हिय उमंगिनी | ललितादिक सखियाँ की संगनी ||
दिनकर कन्या कूल विहारिणी | कृष्ण प्रण प्रिय हिय हुल्सवानी ||

नित्य श्याम तुम्हारो गुण गावें | श्री राधा राधा कही हर्शवाहीं ||
मुरली में नित नाम उचारें | तुम कारण लीला वपु धरें ||

प्रेमा स्वरूपिणी अति सुकुमारी | श्याम प्रिय वृषभानु दुलारी ||
नावाला किशोरी अति चाबी धामा | द्युति लघु लाग कोटि रति कामा ||

गौरांगी शशि निंदक वदना | सुभाग चपल अनियारे नैना ||
जावक यूथ पद पंकज चरण | नूपुर ध्वनी प्रीतम मन हारना ||
सन्तता सहचरी सेवा करहीं | महा मोड़ मंगल मन भरहीं ||
रसिकन जीवन प्रण अधर | राधा नाम सकल सुख सारा ||

अगम अगोचर नित्य स्वरूप | ध्यान धरत निशिदिन ब्रजभूपा ||
उप्जेऊ जासु अंश गुण खानी | कोटिन उमा राम ब्रह्मणि ||

नित्य धाम गोलोक बिहारिनी | जन रक्षक दुःख दोष नासवानी ||
शिव अज मुनि सनकादिक नारद | पार न पायं सेष अरु शरद ||

राधा शुभ गुण रूपा उजारी | निरखि प्रसन्ना हॉट बनवारी ||
ब्रज जीवन धन राधा रानी | महिमा अमित न जय बखानी ||

प्रीतम संग दिए गल बाहीं | बिहारता नित वृन्दावन माहीं ||
राधा कृष्ण कृष्ण है राधा | एक रूप दौऊ -प्रीती अगाधा ||

श्री राधा मोहन मन हरनी | जन सुख प्रदा प्रफुल्लित बदानी ||
कोटिक रूप धरे नन्द नंदा | दरश कारन हित गोकुल चंदा ||

रास केलि कर तुम्हें रिझावें | मान करो जब अति दुःख पावें ||
प्रफ्फुल्लित होठ दरश जब पावें | विविध भांति नित विनय सुनावें ||
वृन्दरंन्य विहारिन्नी श्याम | नाम लेथ पूरण सब कम ||
कोटिन यज्ञ तपस्या करुहू | विविध नेम व्रत हिय में धरहु ||

तू न श्याम भक्ताही अपनावें | जब लगी नाम न राधा गावें ||
वृंदा विपिन स्वामिनी राधा | लीला वपु तुवा अमित अगाध ||

स्वयं कृष्ण नहीं पावहीं पारा | और तुम्हें को जननी हारा ||
श्रीराधा रस प्रीती अभेद | सादर गान करत नित वेदा ||

राधा त्यागी कृष्ण जो भाजिहाई | ते सपनेहूँ जग जलधि न ||
कीरति कुमारी लाडली राधा | सुमिरत सकल मिटहिं भाव बड़ा ||

नाम अमंगल मूल नासवानी | विविध ताप हर हरी मन भवानी ||
राधा नाम ले जो कोई | सहजही दामोदर वश होई ||

राधा नाम परम सुखदायी | सहजहिं कृपा करें यदुराई |
यदुपति नंदन पीछे फिरिहैन | जो कौउ राधा नाम सुमिरिहैन ||
रास विहारिणी श्यामा प्यारी | करुहू कृपा बरसाने वारि ||
वृन्दावन है शरण तुम्हारी | जय जय जय व्र्शभाणु दुलारी ||

दोहा

श्री राधा रसिकेश्वर घनश्याम | करुहूँ निरंतर वास मई श्री वृन्दावन धाम ||

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678
यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )
यह पोस्ट आपको कैसी लगी Star Rating दे कर हमें जरुर बताये साथ में कमेंट करके अपनी राय जरुर लिखें धन्यवाद : Click Here
Related Post :