भगवान राम के 108 नाम || Bhagwan Ram Ke 108 Naam || 108 Names of Lord Rama

भगवान राम के 108 नाम, Bhagwan Ram Ke 108 Naam, 108 Names of Lord Rama, भगवान राम के 108 नाम के फायदे, Bhagwan Ram Ke 108 Naam Ke Fayde, भगवान राम के 108 नाम के लाभ, Bhagwan Ram Ke 108 Naam Ke Labh, Bhagwan Ram Ke 108 Naam Benefits, Bhagwan Ram Ke 108 Naam in Hindi, Bhagwan Ram Ke 108 Naam Pdf, Bhagwan Ram Ke 108 Naam Mp3 Download, Bhagwan Ram Ke 108 Naam Lyrics, 108 Names of Lord Rama Pdf, 108 Names of Lord Rama Mp3 Download, 108 Names of Lord Rama Lyrics. 

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

नोट : यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )

30 साल के फ़लादेश के साथ वैदिक जन्मकुंडली बनवाये केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

हर महीनें का राशिफल, व्रत, ज्योतिष उपाय, वास्तु जानकारी, मंत्र, तंत्र, साधना, पूजा पाठ विधि, पंचांग, मुहूर्त व योग आदि की जानकारी के लिए अभी हमारे Youtube Channel Pandit Lalit Trivedi को Subscribers करना नहीं भूलें, क्लिक करके अभी Subscribers करें : Click Here

भगवान राम के 108 नाम || Bhagwan Ram Ke 108 Naam

भगवान राम जी के 108 नाम का नियमित रूप से पाठ करने से जातक के यंहा लक्ष्मी जी का स्थिर वास होता हैं ! साधक की समस्त मनोकामना पूर्ण होती हैं ! जय श्री सीताराम !! जय श्री हनुमान !! जय श्री दुर्गा माँ !! यदि आप अपनी कुंडली दिखा कर परामर्श लेना चाहते हो तो या किसी समस्या से निजात पाना चाहते हो तो कॉल करके या नीचे दिए लाइव चैट ( Live Chat ) से चैट करे साथ ही साथ यदि आप जन्मकुंडली, वर्षफल, या लाल किताब कुंडली भी बनवाने हेतु भी सम्पर्क करें : 9667189678 Bhagwan Ram Ke 108 Naam By Online Specialist Astrologer Acharya Pandit Lalit Trivedi.

भगवान राम के 108 नाम || Bhagwan Ram Ke 108 Naam

  • श्रीराम: – जिनमें योगीजन रमण करते हैं, ऐसे सच्चिदानन्दघंस्वरूप श्री राम अथवा सीता-सहित राम
  • रामचन्द्र: – चंद्रमा के समान आनन्दमयी एवं मनोहर राम
  • रामभद्र: – कल्याणमय राम
  • शाश्वत: :- सनातन राम
  • राजीवलोचन:- कमल के समान नेत्रोंवाले
  • श्रीमान् राजेन्द्र:- श्री सम्पन्न राजाओं के भी राजा, चक्रवर्ती सम्राट
  • रघुपुङ्गव:- रघुकुल में श्रेष्ठ
  • जानकीवल्लभ:- जनककिशोरी सीता के प्रियतम
  • जैत्र: – विजयशील
  • जितामित्र:- शत्रुओं को जीतनेवाला
  • जनार्दन:- सम्पूर्ण मनुष्यों द्वारा याचना करने योग्य
  • विश्वामित्रप्रिय:-विश्वामित्रजी के प्रियतम
  • दांत:- जितेंद्रिय
  • शरण्यत्राणतत्पर:- शरणागतों के रक्षा में तत्पर
  • बालिप्रमथन:- बालि नामक वानर को मारनेवाले
  • वाग्मी- अच्छे वक्ता
  • सत्यवाक्- सत्यवादी
  • सत्यविक्रम:- सत्य पराक्रमी
  • सत्यव्रत:- सत्य का दृढ़ता पूर्वक पालन करनेवाले
  • व्रतफल:- सम्पूर्ण व्रतों के प्राप्त होने योग्य फलस्वरूप
  • सदा हनुमदाश्रय:- निरंतर हनुमान जी के आश्रय अथवा हनुमानजी के ह्रदयकमल में निवास करनेवाले
  • कौसलेय:- कौसल्याजी के पुत्र
  • खरध्वंसी :- खर नामक राक्षस का नाश करनेवाले
  • विराधवध-पण्डित:- विराध नामक दैत्य का वध करने में कुशल
  • विभीषण-परित्राता- विभीषण के रक्षक
  • दशग्रीवशिरोहर:- दशशीश रावण के मस्तक काटनेवाले

  • सप्ततालप्रभेता – सात ताल वृक्षों को एक ही बाण से बींध डालनेवाले
  • हरकोदण्ड- खण्डन:- जनकपुर में शिवजी के धनुष को तोड़नेवाले
  • जामदग्न्यमहादर्पदलन:- परशुरामजी के महान अभिमान को चूर्ण करनेवाले
  • ताडकान्तकृत- ताड़का नामवाली राक्षसी का वध करनेवाले
  • वेदान्तपार:- वेदान्त के पारंगत विद्वान अथवा वेदांत से भी अतीत
  • वेदात्मा:- वेदस्वरूप
  • भवबन्धैकभेषज:- संसार बन्धन से मुक्त करने के लिये एकमात्र औषधरूप
  • दूषणप्रिशिरोsरि:- दूषण और त्रिशिरा नामक राक्षसों के शत्रु
  • त्रिमूर्ति:- ब्रह्मा,विष्णु और शिव- तीन रूप धारण करनेवाले
  • त्रिगुण:- त्रिगुणस्वरूप अथवा तीनों गुणों के आश्रय
  • त्रयी- तीन वेदस्वरूप
  • त्रिविक्रम:- वामन अवतार में तीन पगों से समस्त त्रिलोकीको नाप लेनेवाले
  • त्रिलोकात्मा- तीनों लोकों के आत्मा
  • पुण्यचारित्रकीर्तन:- जिनकी लीलाओं का कीर्तन परम पवित्र हैं, ऐसे
  • त्रिलोकरक्षक:- तीनों लोकोंकी रक्षा करनेवाले
  • धन्वी- धनुष धारण करनेवाले
  • दण्डकारण्यवासकृत्- दण्डकारण्य में निवास करनेवाले
  • अहल्यापावन:- अहल्याको पवित्र करनेवाले
  • पितृभक्त:- पिता के भक्त
  • वरप्रद:- वर देनेवाले
  • जितेन्द्रिय:- इन्द्रियों को काबू में रखनेवाले
  • जितक्रोध:- क्रोध को जीतनेवाले
  • जितलोभ:- लोभ की वृत्ति को परास्त करनेवाले
  • जगद्गुरु:- अपने आदर्श चरित्रोंसे सम्पूर्ण जगत् को शिक्षा देनेके कारण सबके गुरु
  • ऋक्षवानरसंघाती:- वानर और भालुओं की सेना का संगठन करनेवाले
  • चित्रकूट – समाश्रय:- वनवास के समय चित्रकूट पर्वत पर निवास करनेवाले

  • जयन्तत्राणवरद:- जयन्त के प्राणों की रक्षा करके उसे वर देनेवाले
  • सुमित्रापुत्र- सेवित:-सुमित्रानन्दन लक्ष्मण के द्वारा सेवित
  • सर्वदेवाधिदेव:‌- सम्पूर्ण देवताओं के भी अधिदेवता
  • मृतवानरजीवन:- मरे हुए वानरों को जीवित करनेवाले
  • मायामारीचहन्ता- मायामय मृग का रूप धारण करके आये हुए मारीच नामक राक्षस का वध करनेवाले
  • महाभाग:- महान सौभाग्यशाली
  • महाभुज:- बड़ी- बड़ी बाँहोंवाले
  • सर्वदेवस्तुत:- सम्पूर्ण देवता जिनकी स्तुति करते हैं, ऐसे
  • सौम्य:- शांतस्वभाव
  • ब्रह्मण्य:- ब्राह्मणों के हितैषी
  • मुनिसत्तम:- मुनियोंमे श्रेष्ठ
  • महायोगी- सम्पूर्ण योगोंके अधीष्ठान होने के कारण महान योगी
  • महोदर:- परम उदार
  • सुग्रीवस्थिर-राज्यपद:- सुग्रीव को स्थिर राज्य प्रदान करनेवाले
  • सर्वपुण्याधिकफलप्रद:-सम्स्त पुण्यों के उत्कृष्ट फलरूप
  • स्मृतसर्वाघनाशन:- स्मरण करनेमात्र से ही सम्पूर्ण पापों का नाश करनेवाले
  • आदिपुरुष: – ब्रह्माजीको भी उत्पन्न करनेके कारण सब के आदिभूत अन्तर्यामी परमात्मा
  • महापुरुष:- समस्त पुरुषों मे महान
  • परम: पुरुष:- सर्वोत्कृष्ट पुरुष
  • पुण्योदय:- पुण्य को प्रकट करनेवाले
  • महासार:- सर्वश्रेष्ठ सारभूत परमात्मा
  • पुराणपुरुषोत्तम:- पुराणप्रसिद्ध क्षर-अक्षर पुरुषोंसे श्रेष्ठ लीलापुरुषोत्तम
  • स्मितवक्त्र:- जिनके मुखपर सदा मुस्कानकी छटा छायी रहती है, ऐसे
  • मितभाषी- कम बोलनेवाले
  • पूर्वभाषी – पूर्ववक्ता
  • राघव:- रघुकुल में अवतीर्ण

  • अनन्तगुण गम्भीर:- अनन्त कल्याणमय गुणों से युक्त एवं गम्भीर
  • धीरोदात्तगुणोत्तर:- धीरोदात्त नायकके लोकोतर गुणों से युक्त
  • मायामानुषचारित्र:- अपनी मायाका आश्रय लेकर मनुष्योंकी-सी लीलाएँ करनीवाले
  • महादेवाभिपूजित:- भगवान शंकर के द्वारा निरन्तर पूजित
  • सेतुकृत- समुद्रपर पुल बाँधनेवाले
  • जितवारीश:- समुद्रको जीतनेवाले
  • सर्वतीर्थमय:- सर्वतीर्थस्वरूप
  • हरि:- पाप-ताप को हरनेवाले
  • श्यामाङ्ग:- श्याम विग्रहवाले
  • सुन्दर:- परम मनोहर
  • शूर:- अनुपम शौर्यसे सम्पन्न वीर
  • पीतवासा:- पीताम्बरधारी
  • धनुर्धर:- धनुष धारण करनेवाले
  • सर्वयज्ञाधिप:- सम्पूर्ण यज्ञों के स्वामी
  • यज्ञ:- यज्ञ स्वरूप
  • जरामरणवर्जित:- बुढ़ापा और मृत्यु से रहित
  • शिवलिंगप्रतिष्ठाता- रामेश्वर नामक ज्योतिर्लिंग की स्थापना करनेवाले
  • सर्वाघगणवर्जित:‌ – समस्त पाप-राशियों से रहित
  • परमात्मा- परमश्रेष्ठ, नित्यशुद्ध-बुद्ध –मुक्तस्वरूपा
  • परं ब्रह्म- सर्वोत्कृष्ट, सर्वव्यापी एवं सर्वाधिष्ठान परमेश्वर
  • सच्चिदानन्दविग्रह:- सत्, चित् और आनन्द ही जिनके स्वरूप का निर्देश करानेवाला है, ऐसे
  • परं ज्योति:- परम प्रकाशमय,परम ज्ञानमय
  • परं धाम- सर्वोत्कृष्ट तेज अथवा साकेतधामस्वरूप
  • पराकाश:- त्रिपाद विभूतिमें स्थित परमव्योम नामक वैकुण्ठधामरूप, महाकाशस्वरूप ब्रह्म
  • परात्पर:- पर- इन्द्रिय, मन, बुद्धि आदि से भी परे परमेश्वर
  • परेश:- सर्वोत्कृष्ट शासक
  • पारग:- सबकोपार लगानेवाले अथवा मायामय जगत की सीमा से बाहर रहनेवाले
  • पार:- सबसे परे विद्यमान अथवा भवसागर से पार जाने की इच्छा रखनेवाले प्राणियों के प्राप्तव्य परमात्मा
  • सर्वभूतात्मक:- सर्वभूतस्वरूप
  • शिव:- परम कल्याणमय

10 वर्ष के उपाय के साथ अपनी लाल किताब की जन्मपत्री ( Lal Kitab Horoscope  ) बनवाए केवल 500/- ( Only India Charges  ) में ! Mobile & Whats app Number : +91-9667189678

<<< पिछला पेज पढ़ें                                                                                                                      अगला पेज पढ़ें >>>


यदि आप अपने जीवन में किसी कारण से परेशान चल रहे हो तो ज्योतिषी सलाह लेने के लिए अभी ज्योतिष आचार्य पंडित ललित त्रिवेदी पर कॉल करके अपनी समस्या का निवारण कीजिये ! +91- 9667189678 ( Paid Services )

यह पोस्ट आपको कैसी लगी Star Rating दे कर हमें जरुर बताये साथ में कमेंट करके अपनी राय जरुर लिखें धन्यवाद : Click Here